एक दिन में 50000 से ज्यादा लोग नहीं कर सकेंगे वैष्णो देवी के दर्शन

वैष्णो देवी भवन में अब एक दिन मेंसिर्फ 50 हजार तक श्रद्धालु ही दर्शन कर पाएंगे। वैष्णो देवी भवन में पर्यावरण के नुकसान और किसी अनहोनी घटना से बचने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने सोमवार को यह संख्या तय की। 50 हजार से ज्यादा श्रद्धालुओं को कटरा या अर्द्धकुंवारी में ही रोका जाएगा। हालांकि, साल में करीब 10-12 दिन ही श्रद्धालुओं की संख्या 50 हजार से पार जाती है। अप्रैल, मई और दिसंबर के अंत में छुटि्टयों के दौरान यह संख्या बढ़ती है। अभी तक एक भी साल में रोज दर्शन करने वालों की औसत संख्या 30 हजार से पार नहीं गई है।
इस साल रोज औसतन 24000 श्रद्धालु
यात्रा का नया मार्ग 24 नवंबर तक
खोलना होगा, खच्चरों पर पाबंदी रहेगी
{वैष्णाे देवी भवन की क्षमता 50 हजार श्रद्धालुओं की ही है। श्रद्धालुओं की संख्या इससे ज्यादा हो तो उन्हें अर्द्धकुंवारी या कटरा में ही रोक दिया जाए।
{पदयात्रियों आैर बैटरी ऑपरेटेड कारों के लिए 40 करोड़ रुपए से बना नया रास्ता 24 नवंबर तक खोलें। आगे कोई मोहलत नहीं देंगे। ऐसा नहीं हुआ तो संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई होगी।
{नए रास्ते पर घोड़े और खच्चरों को जाने की इजाजत नहीं हाेगी। यात्रा के पुराने रास्ते से भी धीरे-धीरे घोड़े- खच्चरों को हटाना शुरू करें।
{कटरा में बस स्टैंड या सड़कों पर गंदगी फैलाते पकड़े गए लोगों पर तत्काल दो हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाए।
{गुफा क्षेत्र में कोई भी नया निर्माण नहीं किया जाएगा।