कोटा में मकर संक्रांति पर पंतग उडाने पर आंशिक प्रतिबंध

कोटा 9 जनवरी। अतिरिक्त जिला मजिस्टेट,नगर बी.एल.मीणा ने एक आदेश जारी कर माननीय उच्च न्यायालय द्वारा पारित निर्णय की अनुपालना में जिले में पतंग उडाने पर पर्यावरण अधिनियम 1986 की धारा 5 के तहत प्रयोग में लाई जाने वाली सामग्री पर सुबह 6 से 8 एवं सायं 5 से रात्रि 7 बजे तक प्रतिबंधित किया है।

जारी आदेश के अनुसार पंतग उडाने में सिन्थेटिक्स धागे/चाईनीज धागे के प्रयोग से उसमें उलझ जाने से पक्षियों की मृत्यु होती है। साथ ही आम राह चलते लोगों की भी कई बार दुर्घटनाऐं होती है। आदेश में स्पष्ट किया गया है कि उक्त प्रतिबंध के बावजूद भी जिले में पंतग उडाने के लिए सिंथेटिक्स/चाईनीज धागों का निर्माण एवं विक्रय की जा रही है जो अवैध है।

जांच कमेटी गठित

कोटा शहर में सिंथेटिक्स/ चाईनीज मांझे के निर्माण एवं बिक्री करने वालों की जांच एवं उनके खिलाफ कार्यवाही करने के लिए एक कमेटी का गठन किया है। जारी आदेश के अनुसार इस कमेटी में रीजनल ऑफिसर प्रदूषण नियंत्रण मंडल कोटा को अध्यक्ष तथा संबंधित क्षेत्र के थानाधिकारी व स्वास्थ्य अधिकारी नगर निगम अथवा आयुक्त नगर निगम द्वारा नियुक्त अधिकारी को सदस्य बनाया गया है। जांच कमेटी प्रतिबंधित सामग्री पर निगाह बनाये रखते हुए विक्रय करते पाये जाने एवं उपयोग लेने वालों के खिलाफ नियमानुसार कार्यवाही करेगी।

जनसम्पर्क कर्मी पतंग नहीं उडायेंगे
कोटा 9 जनवरी। सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग कोटा के कर्मचारी आगामी मकर सक्रांति के अवसर पर पतंग नहीं उडायेंगे।
उप निदेशक जनसम्पर्क हरिओम गुर्जर की अध्यक्षता में मंगलवार को कार्यालय कार्मिकों की बैठक आयोजित की गई। बैठक में सभी कार्मिकों ने सर्वसम्मति ने निर्णय लिया कि मकर सक्रांति के पर्व पर पतंग उड़ाने में काम में लिये जाने वाले चाईनिज माजे का बहिष्कार सहित पक्षियों की सुरक्षा हेतु पतंग नहीं उडाने का निर्णय लिया गया है। बैठक में जिले के सभी कार्मिकों एवं आमजन से भी आग्रह किया गया कि पतंग उडाने में चाईनिज मांझे का उपयोग नहीं करें ताकि बेगुनाह एवं अनजान पक्षी तथा राहगीरों को किसी प्रकार का नुकसान नहीं हो

Leave a Reply