डोकलाम पर चीन दे रहा भारत को धोखा, सीमा पर सड़क से लेकर टनल तक बना डाले

चीन अपनी चालबाजियों से बाज नहीं आ रहा है. आजतक के पास डोकलाम पर अपनी गिद्ध दृष्टि जमाए बैठे चीन के खिलाफ एक्सक्लूसिव दस्तावेज मौजूद हैं, जो ये साबित करते हैं कि डोकलाम में चीन भारत की आंखों में धूल झोंक रहा है.

सड़क निर्माण और दूसरे इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत किए

आजतक को मिले खुफिया दस्तावेज ये खुलासा करते हैं कि नॉर्थ डोकलाम में चीन अब भी सड़क निर्माण और दूसरे इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत कर रहा है. नॉर्थ डोकलाम में चीन अपनी सैनिक चौकियों के आसपास सड़क का निर्माण कर रहा है. इतना ही नहीं चीन के सैनिक अब भी नॉर्थ डोकलाम के इलाके में पेट्रोलिंग कर रहे हैं. नॉर्थ डोकलाम में बर्फबारी शुरू होने के बाद सितंबर तक चीन की सेना पीछे हट जाती थी, लेकिन इस बार चीन के सैनिक इन इलाकों में डटे हुए हैं. नॉर्थ डोकलाम में रहने के लिए चीन वहां परमानेंट सैनिक कॉलोनियां बना रहा है

डोकलाम में चीन ने बनाई 6 अत्याधुनिक टनल

नॉर्थ डोकलाम के पास फारी डेजोंग इलाके में चीन सामरिक महत्व की 16 पक्की इमारतें बना रहा है. चीन ने नॉर्थ डोकलाम में अपने सैन्य साजो-सामान को रखने के लिए 6 अत्याधुनिक टनल भी बना ली हैं. साथ ही बर्फीले तूफान से बचाने के लिए 25 से 30 परमानेंट शेड्स भी डाले हैं. इतना ही नहीं चुंबी वैली में भी चीनी सैनिकों ने पूरी सर्दियां डेरा डाले रखने का इंतज़ाम कर लिया है.

भूटान को दे रहा धमकी, 64 मशीनगन तैनात की

दुनिया को दिखाने के लिए चीन ने डोकलाम में अपने सैनिक पीछे हटाए, लेकिन वो सैनिक बैरकों में लौटने के बजाय डोकलाम में ही दूसरी लोकेशनों पर शिफ्ट कर दिए गए. आजतक को ये पक्की जानकारी मिली है कि भूटान के विरोध के बाद भी चीन के सैनिक नॉर्थ डोकलाम के इलाकों में पेट्रोलिंग कर रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक चीन भूटान को धमका रहा है कि डोकलाम के इलाकों से भारतीय फौज को हटाओ. इतना ही नहीं चीन ने नॉर्थ डोकलाम के इलाकों में 64 मशीन गन भी तैनात की हुई हैं.

सीक्रेट हेलीबेस बनाकर ऊंची दीवारों से छिपाने की कोशिश

भारतीय खुफिया एजेंसियों ने इन इलाकों में 400 से ज्यादा छोटी गाड़ियों को भी लोकेट किया है, जिससे चीन के सैनिक एक जगह से दूसरी जगह आते-जाते हैं. खुफिया दस्तावेजों के मुताबिक चीन ने नॉर्थ डोकलाम में एक सीक्रेट हेलीबेस भी बना रखा है जिसे ऊंची दीवारों से छिपाने की कोशिश की गई है.

डोकलाम से पीछे हटने का किया था नाटक

चीन की इस नई चालबाजी से ये सवाल फिर से होने लगा है कि क्या वाकई उसने डोकलाम में अपनी हार स्वीकार की थी या डोकलाम से पीछे हटने का सिर्फ नाटक किया था? आजतक के पास मौजूद भारत की इंटेलिजेंस ब्यूरो और रॉ के जो दस्तावेज मौजूद हैं वो साफ इशारा करते हैं कि चीन ने डोकलाम में पीछे हटने का सिर्फ नाटक किया है. डोकलाम में चीन ने सिर्फ अपनी लोकेशन बदली है, अपना अवैध कब्जा नहीं.

भारत-चीन के बीच बड़ी टेंशन की बन सकता है वजह

चीन को अपनी सीमाएं बढ़ाने का इतना बड़ा चस्का है कि वो जहां मौका देखता है, अपने पड़ोसी देशों की जमीन पर अपना खूंटा गाड़ लेना चाहता है. डोकलाम में भी चीन ने यही करने की कोशिश की. जिस तरह अब नॉर्थ डोकलाम और चुंबी वैली में अपने पैर जमा रहा है, वो आने वाले वक्त में भारत और चीन के बीच टेंशन की बड़ी वजह बन सकती है.

 

report aaj tak