क्या कैशलेस इंडिया का भविष्य है डिजिटल करेंसी ‘बिटकॉयन’?

भारत में नोटबंदी के साथ-साथ ई-वॉलेट और कैशलेस इकोनॉमी की तरफ छलांग लगाने की कवायद हो रही है. कभी प्रधानमंत्री तो कभी वित्तमंत्री के मुंह से डिजिटल इंडिया और डिजिटल करेंसी का हवाला मिल रहा है. आप और हम मान लेतें हैं कि इशारा कैश का इस्तेमाल न करते हुए क्रेडिट, डेबिट और ई-वॉलेट की मदद से ट्रांजैक्शन करने की तरफ है. लेकिन क्या ये डिजिटल करेंसी है? नहीं. जानिए क्या है बिटकॉयन और क्या हैं इसके फायदे और नुकसान…

क्या है डिजिटल करेंसी?
डिजिटल करेंसी इंटरनेट पर चलने वाली एक वर्चुअल करेंसी हैं. इंटरनेट पर इस वर्चुअल करेंसी की शुरुआत जनवरी 2009 में बिटकॉयन के नाम से हुई थी. इस वर्चुअल करेंसी का इस्तेमाल कर दुनिया के किसी कोने में किसी व्यक्ति को पेमेंट किया जा सकता है और सबसे खास बात यह है कि इस भुगतान के लिए किसी बैंक को माध्यम बनाने की भी जरूरत नहीं पड़ती.

कैसे काम करती है डिजिटल करेंसी?
बिटकॉयन का इस्तेमाल पीयर टू पीयर टेक्नोलॉजी पर आधारित है. इसका मतलब कि बिटकॉयन की मदद से ट्रांजैक्शन दो कंप्यूटर के बीच किया जा सकता है. इस ट्रांजैक्शन के लिए किसी गार्जियन अथवा सेंट्रेल बैंक की जरूरत नहीं पड़ती. बिटकॉयन ओपन सोर्स करेंसी है जहां कोई भी इसकी डिजाइन से लेकर कंट्रोल को अपने हाथ में रख सकता है. इस माध्यम से ट्रांजैक्शन कोई भी कर सकता है क्योंकि इसके लिए किसी तरह की रजिस्ट्रेशन अथवा आईडी की जरूरत नहीं पड़ती. इस माध्यम से ट्रांजैक्शन की तमाम ऐसी खूबिया है जो मौजूदा समय में कोई बैंकिंग ट्रांजैक्शन नहीं देती.

किसने की बिटकॉयन की शुरुआत?
बिटकॉयन की शुरुआत जनवरी 2009 में एक अज्ञात व्यक्ति ने की. इस व्यक्ति ने अपना उपनाम संतोषी नाकामोटो बताया और इससे ज्यादा अपने बारे में कोई जानकारी नहीं दी. हालांकि इस अज्ञात व्यक्ति ने 2010 में बिटकॉयन प्रोजेक्ट को छोड़ दिया, जिसके बाद भी बिटकॉयन ने अपने कारोबार को कई गुना बढ़ा लिया. मौजूदा समय में बिटकॉयन की टेक्नोलॉजी पूरी तरह से ओपन सोर्स होने के कारण इसके कोड में कोई भी परिवर्तन कर सकता है.

क्या है बिटकॉयन की अहम खूबियां?
बिटकॉयन से इंटरनेट पर आसानी से दो लोगों के बीच ट्रांजैक्शन किया जा सकता है. इस ट्रांजैक्शन में शामिल दोनों लोगों के बीच जान पहचान होना जरूरी नहीं है. न ही इस ट्रांजैक्शन को पूरा करने के लिए सरकार, बैंक अथवा किसी एजेंसी की जरूरत पड़ती है. एक बार बिटकॉयन के माध्यम से ट्रांजैक्शन हो जाने के बाद इसे कैंसल नहीं किया जा सकता है. इस ट्रांजैक्शन को कुछ सेकेंड में अंजाम दिया जा सकता है और ट्रांजैक्शन होते ही बिटकॉयन दूसरे ट्रांजैक्शन को भी तुरंत करने के लिए उपलब्ध रहता है.

ग्लोबल करेंसी मार्केट में ट्रेड होता है बिटकॉयन
बिटकॉयन की 2009 में लॉंचिंग के बाद लगातार लोकप्रियता में इजाफा हुआ है. हालांकि अभी किसी देश के केन्द्रीय बैंक ने बिटकॉयन को करेंसी की मान्यता नहीं दी है. लेकिन डेल और आईबीएम जैसी कुछ मल्टीनैशनल कंपनियां बिटकॉयन के जरिए अपने नेटवर्क पर खरीदारी करने की इजाजत देती हैं. लंदन के ग्लोबल फॉरेक्स मार्केट में बिटकॉयन ट्रेड होता है लेकिन ट्रेडिंग महज वर्चुअल रहती है. इस ट्रेडिंग के आधार पर बिटकॉयन की इंटरनैशनल करेंसी बास्केट में मौजूद सभी करेंसी के सापेक्ष कीमत तय हो जाती है. फॉरेक्स मार्केट में एक बिटकॉयन की कीमत अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 700 डॉलर के अधिक है.

क्यों नोटबंदी से पॉपुलर हुआ बिटकॉयन
नोटबंदी से पहले ग्लोबल मार्केट में भारतीय रुपये से जुड़ा बिटकॉयन (यूनोकॉयन) महज 20 अमेरिकी डॉलर के आसपास था. लेकिन नोटबंदी के बाद नवंबर महीने में भारतीय बाजार से बिटकॉयन की मांग लगातार बढ़ी जिसके चलते बिटकॉयन मौजूदा समय भारतीय रुपये के सापेक्ष 70-100 अमेरिकी डॉलर पर ट्रेड कर रही है. फॉरेक्स मार्केट के जानकारों के मुताबिक भारतीय रुपये से जुड़े बिटकॉयन की कीमत में यह उछाल नोटबंदी के बाद भारतीय रुपये को बिटकॉयन में बदलने की कोशिशों के चलते हो सकती है.

REPORT AAJ TAK